JS NewsPlus - шаблон joomla Продвижение
BREAKING NEWS
पीबीएल नीलामी में सबसे महंगे रहे सायना, चोंग वेई (लीड-1)
सर्वोच्च न्यायालय का समान नागरिक संहिता पर दखल से इनकार (राउंडअप)
पाकिस्तान जाएंगी सुषमा, नवाज से करेंगी मुलाकात (राउंडअप)
मनपसंद दूल्हे से शादी की जिद में डाई पी ली
विश्व रिकार्ड बनाने जुटे दिल्ली के 2000 स्कूली छात्र
जागरूकता फैलाने भारत में 4,600 किमी दौड़ लगाएंगे पैट फार्मर
नेशनल हेराल्ड मामले में सोनिया और राहुल की याचिका खारिज (राउंडअप)
उप्र : किराएदार महिला से आशनाई में पत्नी की हत्या
जीएसटी विधेयक पारित होने की उम्मीद : पनगढ़िया
पाकिस्तान मामले में विपक्ष को विश्वास में ले सरकार : कांग्रेस

LIVE News

पीबीएल नीलामी में सबसे महंगे रहे सायना, चोंग वेई (लीड-1)

सर्वोच्च न्यायालय का समान नागरिक संहिता पर दखल से इनकार (राउंडअप)

पाकिस्तान जाएंगी सुषमा, नवाज से करेंगी मुलाकात (राउंडअप)

मनपसंद दूल्हे से शादी की जिद में डाई पी ली

विश्व रिकार्ड बनाने जुटे दिल्ली के 2000 स्कूली छात्र

एचडब्ल्यूएल फाइनल : कांस्य पदक के लिए नीदरलैंड्स से भिड़ेगा भारत

रायपुर, 6 दिसम्बर (आईएएनएस)। भारत की पुरुष हॉकी टीम यहां जारी हॉकी वर्ल्ड लीग (एचडब्ल्यूएल) फाइनल में रविवार को कांस्य पदक के लिए होने वाले मुकाबले में नीदरलैंड्स से भिड़ेगी।

टूर्नामेंट के दूसरे संस्करण का फाइनल विश्व चैम्पियन आस्ट्रेलिया और यूरोपीयन पावरहाउस के रूप में उभरे बेल्जियम के बीच होगा।

बेल्जियम ने श्निवाार को हुए सेमीफाइनल मैच में भारत को 1-0 से हराया था। दूसरी ओर, आस्ट्रेलिया ने पहले सेमीफाइनल में नीदरलैंड्स को 2-1 से मात दी थी।

इस टूर्नामेंट में कुल आठ टीमों ने हिस्सा लिया। पहले, दूसरे, तीसरे और चौथे स्थान पर रहने वाली टीमों का नाम आज तय होगा। पांचवें स्थान पर अर्जेटीना रहा जबकि ब्रिटेन ने छठा स्थान हासिल किया।

मौजूदा ओलम्पिक चैम्पियन जर्मनी निराशाजनक तौर पर सातवें स्थान पर रहा। उसने शनिवार को खेले गए क्लासिफिकेशन मैच में कनाडा को 8-3 से हराया।

टूर्नामेंट का फाइनल मैच रात 8.45 बजे से खेला जाएगा जबकि कांस्य पदक का मुकाबला शाम 6.30 बजे से होगा।

इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।

Related items

  • पीबीएल नीलामी में सबसे महंगे रहे सायना, चोंग वेई (लीड-1)
    नई दिल्ली, 7 दिसम्बर (आईएएनएस)। देश के एकमात्र बैडमिंटन लीग टूर्नामेंट 'प्रीमियर बैडमिंटन लीग' (पीबीएल) के लिए सोमवार को राष्ट्रीय राजधानी में हुई खिलाड़ियों की नीलामी में सायना नेहवाल को अवध वॉरियर्स ने सर्वाधिक संभव 1,00,000 डॉलर की राशि में खरीदा।

    पूर्व सर्वोच्च विश्व वरीयता प्राप्त मलेशिया के ली चोंग वेई भी इतनी ही राशि में हैदराबाद हॉटशॉट्स से जुड़े।

    विश्व चैम्पियनशिप में दो बार कांस्य पदक जीत चुकीं तथा भारत की दूसरे नंबर की महिला एकल वर्ग की खिलाड़ी पी. वी. सिंधु नीलामी में तीसरी सबसे महंगी खिलाड़ी रहीं।

    सिंधु को चेन्नई स्मैशर्स ने 95,000 डॉलर की राशि में अपने साथ जोड़ा, जबकि सिंधु की आधार कीमत 50,000 डॉलर ही रखी गई थी। सिंधु के लिए दिल्ली एसर्स और मुंबई रॉकेट्स के बीच अंत तक तीखी बोली लगती रही, हालांकि बाजी चेन्नई स्मैशर्स ने मारी।

    देश के सर्वोच्च वरीय पुरुष खिलाड़ी किदांबी श्रीकांत के लिए भी बोली में काफी प्रतिस्पर्धा रही। नौवीं विश्व वरीयता प्राप्त श्रीकांत को 80,000 डॉलर की राशि में बेंगलुरू टॉप गन्स ने खरीदा।

    राष्ट्रमंडल चैम्पियन पारुपल्ली कश्यप 35,000 डॉलर की राशि में हैदराबाद के साथ जुड़े।

    श्रीकांत की आधार कीमत 50,000 डॉलर और कश्यप की आधार कीमत 25,000 डॉलर रखी गई थी।

    युवा प्रतिभाशाली भारतीय पुरुष खिलाड़ी एच. एस. प्रनॉय को 47,000 डॉलर की राशि में मुंबई ने, जबकि 23वीं विश्व वरीयता प्राप्त अजय जयराम को दिल्ली ने 35,000 डॉलर की राशि में खरीदा।

    पीबीएल नीलामी में किसी खिलाड़ी पर बोली लगाए जाने की अधिकतम राशि एक लाख डॉलर तय की गई थी और सायना तथा चोंग वेई की बोली एक लाख डॉलर की उच्चतम सीमा तक पहुंच गई। जिसके बाद पीबीएल के नियमों के तहत लॉटरी के जरिए फैसला लिया गया।

    लॉटरी में अवध वॉरियर्स के हिस्से में जहां सायना आईं, वहीं हैदराबाद के हिस्से में दो बार के ओलम्पिक रजत पदक विजेता चोंग वेई आए।

    सायना इससे पहले भंग हो चुकी इंडियन बैडमिंटन लीग (आईबीएल) में हैदराबाद का प्रतिनिधित्व किया था।

    भारतीय बैडमिंटन संघ (बीएआई) के अध्यक्ष अखिलेश दासगुप्ता ने बताया कि सायना और चोंग वेई के लिए बोली रविवार को ही लगाई गई थी और सभी फ्रेंचाइजी सायना को अपने साथ जोड़ना चाहते थे।

    उन्होंने बताया कि अंतिम फैसला लेते समय सभी फ्रेंचाइजियों की सहमति ले ली गई थी।

    ज्वाला गुट्टा और अश्विनी पोनप्पा की देश की शीर्ष महिला जोड़ी पर बोली लगाने के लिए हालांकि कोई आगे नहीं आया। ज्वाला और अश्विनी को 30,000 डॉलर की समान राशि पर क्रमश: हैदराबाद और बेंगलुरू ने खरीदा। बेंगलुरू ने बी. सुमीत रेड्डी को 25,000 डॉलर में खरीदा।

    डेनमार्क के जे. फिशर नीलसेन को 30,000 डॉलर में और मलेशिया के हून थिएन हो और खिम वाह लिम को 15,000 डॉलर की समान राशि में बेंगलुरू ने खरीदा।

    डेनमार्क की ही क्रिस्टीना पेडरसन को अवध वॉरियर्स ने 30,000 डॉलर में अपने साथ जोड़ा।

    12वीं विश्व वरीयता प्राप्त इंडोनेशिया के टॉमी सुगियार्तो को उनकी आधार कीमत से 24,000 डॉलर अधिक कीमत (74,000 डॉलर) पर दिल्ली ने खरीदा।

    रूस के व्लादिमिर इवानोव को मुंबई ने 42,000 डॉलर और मलेशिया के कू कीएट कान को 36,000 डॉलर की राशि में दिल्ली ने खरीदा।

    इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।
  • जागरूकता फैलाने भारत में 4,600 किमी दौड़ लगाएंगे पैट फार्मर
    नई दिल्ली, 7 दिसम्बर (आईएएनएस)। ऑस्ट्रेलिया के लंबी दूरी के दिग्गज धावक और पूर्व सांसद पैट फार्मर दुनिया के सामने वास्तविक भारत की तस्वीर उकेरने, इसकी विविध संस्कृति को पेश करने और सबसे बढ़कर भारत में लड़कियों को शिक्षित करने के प्रति जागरूकता फैलाने के उद्देश्य से 60 दिनों तक 4,600 किलोमीटर की दौड़ लगाएंगे।

    पृथ्वी के दोनों ध्रुवों के बीच दौड़ लगा चुके पैट ने सोमवार को नई दिल्ली में अपने अगले रनिंग चैलेंज 'द स्पिरिट ऑफ इण्डिया रन' की घोषणा की।

    पैट फार्मर भारतीय गणतंत्रता दिवस और आस्ट्रेलिया दिवस के रूप में मनाए जाने वाले 26 जनवरी के दिन भारत के दक्षिणी छोर से अपनी 'भारत दौड़' शुरू करेंगे।

    इस अवसर पर भारत में आस्ट्रेलिया के उच्चायुक्त पैट्रिक सकलिंग ने कहा, "पैट फार्मर का यह प्रयास दोनों देशों के बीच, विशेष रूप से दोनों देशों के नागरिकों के बीच संबंधों को सशक्त बनाने की दिशा में महत्वपूर्ण प्रयास है।"

    उल्लेखनीय है कि भारतीय संस्कृति और रंगों को ऑस्ट्रेलियाई बहुत पसंद करते हैं। पैट के इस 'भारत दौड़' को फिल्माया भी जाएगा।

    पैट फार्मर की इस यात्रा को अदानी समूह और महिंद्रा एंड महिंद्रा समूह के पहल 'नन्ही कली' प्रायोजित कर रहे हैं और इसके माध्यम से भारत में लड़कियों की शिक्षा के लिए धनराशि भी जुटाई जाएगी।

    पैट फार्मर ने कहा, "मेरे दो बच्चे छोटे ही थे कि मेरी पत्नी चल बसीं। उसके बाद मैंने जब अपने बच्चों को पाला तो मुझे समझ में आया कि एक महिला समाज में क्या महत्व होता है और उसका शिक्षित होना कितना जरूरी है।"

    उन्होंने कहा, "भारत दुनिया का सर्वश्रेष्ठ लोकतंत्र है। मैं सुबह-सुबह यहां भारत में टहलने निकला तो सड़क किनारे, पार्को में बच्चों को क्रिकेट खेलते देखा और मुझे मेरा बचपन याद हो आया। भारत में अपने अगले चैलेंज को करने का मेरा मकसद यहां सड़क किनारे खेलने वाले बच्चों, युवाओं को प्रोत्साहित करना, दोनों देशों के बीच बिल्कुल जमीनी स्तर पर मित्रवत संबंधों को प्रगाढ़ करना और लड़कियों को शिक्षित करने के प्रति जागरूकता फैलाना होगा।"

    उल्लेखनीय है कि फार्मर के इस भारत दौड़ को प्रायोजित कर रही महिंद्रा ग्रुप अपनी नन्ही कली पहल के माध्यम से देश में लड़कियों की शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए 1996 से प्रयासरत है और देशभर में 100,000 से ज्यादा लड़कियों को शिक्षित कर रहे हैं।

    इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।
  • टेस्ट श्रृंखला जीतने के बाद कोहली ने टीम को सराहा
    नई दिल्ली, 7 दिसम्बर (आईएएनएस)। भारतीय टेस्ट टीम के कप्तान विराट कोहली ने फिरोजशाह कोटला मैदान पर हुए चौथे और आखिरी टेस्ट मैच में दक्षिण अफ्रीका पर 337 रनों से ऐतिहसिक जीत तो दर्ज कर ली, लेकिन वह चौथी पारी में अफ्रीकी बल्लेबाजों की संघर्षपूर्ण बल्लेबाजी की प्रशंसा करना भी नहीं भूले।

    कोहली ने साथ ही अपनी टीम को भी मैच जीताऊ खेल के लिए बधाई दी।

    दिल्ली टेस्ट के पांचवें दिन सोमवार को दक्षिण अफ्रीकी टीम चौथी पारी में मिले 481 रनों के विशाल लक्ष्य का पीछा करते हुए 143 रनों पर ढेर हो गई और भारत ने रन अंतर से लिहाज से अपनी सबसे बड़ी (337 रनों से) जीत हासिल की।

    मेहमानों ने दिग्गज बल्लेबाज अब्राहम डीविलियर्स, कप्तान हाशिम अमला और फाफ दू प्लेसिस के अनुभव के दम पर शानदार रक्षात्मक बल्लेबाजी का प्रदर्शन किया और चौथी पारी में 143.1 ओवरों तक संघर्ष करत रहे।

    अपने घरेलू मैदान पर पहली बार बतौर कप्तान खेले कोहली ने मैच के बाद कहा, "अफ्रीकी बल्लेबाजों ने जिस तरह बल्लेबाजी की वह हैरान करने वाली रही। इस तरह की रक्षात्मक बल्लेबाजी करना बेहद मुश्किल होता है। लेकिन जिस तरह उन्होंने बल्लेबाजी की मैं उससे काफी प्रभावित हूं। मैं खुश हूं की हमारे गेंदबाज इस तरह के मुश्किल दौर से गुजरे जहां उनकी परीक्षा हुई। बावजूद इसके उन्होंने अच्छा प्रदर्शन किया और टीम को जीत दिलाई।

    उन्होंने आगे कहा, "हमारे गेंदबाज या क्षेत्ररक्षक किसी भी पल डरे हुए नहीं थे। हम जानते थे कि हमें कब मौके मिलेंगे। हमें सिर्फ यह सुनिश्चित करना था कि हम उन मौकों को भुनाने के लिए मानसिक रूप से तैयार रहें।"

    कोहली ने आगे कहा कि अफ्रीकी बल्लेबाजों की रक्षात्मक शैली ने भारतीय गेंदबाजों से दबाव हटाने में मदद की जिससे हमें क्षेत्ररक्षण जमाने में काफी मदद मिली।

    उन्होंने कहा, "जिस तरह अफ्रीका ने बल्लेबाजी की उससे हमें अपने पार्ट टाइम गेंदबाजों का उपयोग करने का मौका मिला। उनकी रन न बनाने की रणनीति ने हमें मौका दिया की हम अपने मुख्य गेंदबाजों को आराम दे सकें और पार्ट टाइम गेंदबाजों से गेंदबाजी करवाएं।"

    कोहली ने मेहमानों की रक्षात्मक शैली का बचाव किया और कहा, "उन्होंने वही किया जो उस समय करना चाहिए था।"

    कोहली ने कहा, "यह उनकी टीम की रणनीति थी। दूसरी पारी में जिस तरह से हमने बल्लेबाजी की उसे लोग देखना पसंद करते हैं। हमने दूसरी पारी में अच्छी गेंदबाजी की। अफ्रीका की रणनीति को सकारात्मक या नकारात्मक कहना सही नहीं होगा। जाहिर सी बात है उन्हें मैच बचाना था इसके लिए वह कुछ भी करें यह उनकी मर्जी।"

    कोहली ने अपने कप्तानी करियर की शुरुआत आस्ट्रेलिया दौरे से की थी जहां उन्हें 2-0 से हार झेलनी पड़ी थी। लेकिन कोहली का कहना है कि टीम ने उस दौरे से काफी कुछ सीखा।

    उन्होंने कहा, "हम आस्ट्रेलिया में जिस तरह से खेले उससे हमारा आत्मविश्वास बढ़ा। हारने के बाद भी हमने बुहत कुछ सीखा। वहां मिली हार एकतरफा नहीं थीं। हम हर समय जीत के करीब थे और किसी भी वक्त मैच जीत सकते थे।"

    उन्होंने आगे कहा, "इससे हमें विश्वास हुआ कि हम अच्छा खेल सकते हैं और एक चैम्पियन टीम बन सकते हैं। और हमने इसी आत्मविश्वास को श्रीलंका में भी बनाए रखा। हमने कुछ रणनीतियां बनाई थीं जो टेस्ट मैच जीतने के लिए जरूरी थीं।"

    कोहली ने कहा, "टेस्ट ऐसा प्रारूप है जहां हम सब अच्छा करना चाहते हैं। मैं जीत का श्रेय अपनी टीम को देना चाहूंगा उन्होंने दिखाया है कि मैच में वापसी कैसे की जाती है।"

    इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।
  • अब अनुभवी ह्यूसेनोव से भिड़ेंगे विजेंदर
    मैनचेस्टर, 7 दिसम्बर (आईएएनएस)। पेशेवर मुक्केबाजी अपना चुके ओलम्पिक पदक विजेता भारतीय मुक्केबाज विजेंदर सिंह 19 दिसंबर को बुल्गारिया के अनुभवी मुक्केबाज ह्यूसेनोव से अगला मुकाबला करेंगे।

    पेशेवर मुक्केबाजी में लगातार दो जीत के साथ शानदार आगाज करने वाले विजेंदर की कोशिश अपने विजयी अभियान को जारी रखने की होगी।

    विजेंदर ने अपने पदार्पण मुकाबले में सोन्नी व्हाइटिंग को हराया था, वहीं पिछले महीने हुए दूसरे मुकाबले में उन्होंने डीन गिलेन को शिकस्त दी थी।

    शुरुआती दोनों मुकाबलों में जहां विजेंदर के दोनों प्रतिद्वंद्वी भी पेशेवर मुक्केबाजी में नए ही थे, वहीं 14 मुकाबलों में सात जीत हासिल कर चुके ह्यूसेनोव से मुकाबला उनके लिए आसान नहीं होने वाला।

    विजेंदर ने सोमवार को कहा, "यह मेरे लिए एक और महत्वपूर्ण मुकाबला है, जिसे मुझे जीतना है।"

    उन्होंने कहा, "मैं अब तक अजेय हूं और आने वाले साल में इसी तरह जाना चाहूंगा। मेरा लक्ष्य जीवन का पहला खिताब जीतना है और मैं ह्यूसेनोव को इसमें बाधा नहीं बनने दूंगा।"

    विजेंदर ने अपनी रणनीति पर बात करते हुए कहा, "मुझे देखना होगा कि ह्यूसेनोव रिंग में किस तैयारी से आते हैं। अगर मुझे लगेगा की मैं जल्द ही मुकाबला खत्म कर सकता हूं तो मेरी पूरी कोशिश उसे जल्द खत्म करने की होगी।"

    ह्यूसेनोव के बारे में विजेंदर ने कहा, "वह काफी अनुभवी हैं और 14 मुकाबले, 64 राउंड के अनुभव के साथ वह मुझ पर भारी हैं। लेकिन अगर मैं चौथे राउंड तक खड़ा रहा तो इसका मतलब होगा की मैं सुधार कर रहा हूं। मैं साल का अंत जीत के साथ करना चाहता हूं।"

    वहीं ह्यूसेनोव ने अपने बयान से विजेंदर को डराने की कोशिश की है। उन्होंने कहा है, "विजेंदर का मुकाबला अभी तक मुझे जैसे खिलाड़ी से नहीं हुआ है। उन्हें 19 दिसंबर को पता चलेगा की एक पेशेवर मुक्केबाज से लड़ना क्या होता है।"

    इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।
  • पीसीबी ने द्विपक्षीय श्रृंखला पर बीसीसीआई से मांगा जवाब
    लाहौर, 7 दिसम्बर (आईएएनएस)। पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) ने भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) से सोमवार तक दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय श्रृंखला पर अपना अंतिम निर्णय बताने के लिए कहा।

    पीसीबी के अनुसार यदि बीसीसीआई इस समयावधि के बीच कोई अंतिम निर्णय नहीं लेती है तो पीसीबी के पास इस श्रृंखला को रद्द करने का पूरा अधिकार होगा, क्योंकि शेष बंदोबस्त करने के लिए उसे कुछ समय भी चाहिए।

    पीसीबी ने भारत के साथ 15 दिसंबर से चार जनवरी के बीच तीन मैचों की एकदिवसीय श्रृंखला और दो मैचों की टी-20 श्रृंखला खेलने का प्रस्ताव रखा था, लेकिन बीसीसीआई ने इस प्रस्तावित कार्यक्रम की अब तक पुष्टि नहीं की है और पाकिस्तान के साथ खेलने को लेकर उसे भारत सरकार की अनुमति का इंतजार है।

    पीसीबी के चेयरमैन शहरयार खान ने कहा है कि उन्होंने बीसीसीआई से सोमवार तक अपना फैसला सुनाने के लिए कहा है, ताकि श्रृंखला के लिए बंदोबस्त किए जा सकें।

    समाचार पत्र 'डान' ने शहरयार के हवाले से कहा, "यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि अब तक संशय की स्थिति बनी हुई है। इन परिस्थितियों में किसी भी संगठन के लिए इतने कम समय में सारे बंदोबस्त करना आसान नहीं होगा।"

    शहरयार ने कहा, "द्विपक्षीय श्रृंखला के जरिए दोनों देशों के बीच क्रिकेट संबंध बहाल करने में पीसीबी ने अब तक सकारात्मक भूमिका अदा की है, लेकिन अब जिम्मेदारी निभाने की बारी बीसीसीआई की है। मुझे पूरा विश्वास है कि अधिकांश भारत वासी इस श्रृंखला का लुत्फ उठाना पसंद करेंगे। लेकिन यह दुर्भाग्य की बात है कि भारतीय क्रिकेट प्रशंसकों को बीते आठ वर्षो से इसका जश्न उठाने का मौका ही नहीं दिया गया।"

    शहरयार ने कहा कि चूंकि अब काफी विलंब हो चुका है, इसलिए उनके मन में अब कोई विकल्प नहीं चल रहा।

    हाल ही में पेरिस में दोनों देशों के प्रधानमंत्रियों के बीच हुई अनौपचारिक बैठक के बाद शहरयार ने कहा था कि उम्मीद करता हूं कि क्रिकेट संबंध बहाली की चर्चा हुई हो, लेकिन उसके बाद से इस मामले को किनारे कर दिया गया है।

    इंग्लैंड एंड वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ईसीबी) के पूर्व अध्यक्ष जाइल्स क्लार्क ने हाल ही में दोनों देशों के बोर्डो के बीच दुबई में बैठक आयोजित करवाई थी। लेकिन उस बैठक के बाद भी कोई ठोस समाधान नहीं निकल सका।

    इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।
  • दिल्ली डेयरडेविल्स के कोच पद से हटाए गए किस्र्टेन
    नई दिल्ली, 7 दिसम्बर (आईएएनएस)। इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) की टीम दिल्ली डेयरडेविल्स ने गैरी किस्र्टेन को टीम के कोच पद से हटा दिया है। इस बात की घोषणा फ्रेंचाइजी ने सोमवार को की।

    दक्षिण अफ्रीका के पूर्व सलामी बल्लेबाज किस्र्टेन को 2014 में डेयरडविल्स का कोच नियुक्त किया गया था।

    किस्र्टेन के कोच रहते डेयरडेविल्स की टीम का प्रदर्शन काफी निराशाजनक रहा। 2014 में टीम अंकतालिका में सबसे नीचे रही, जबकि 2015 में टीम 14 मैचों में सिर्फ पांच जीत हासिल कर आठ टीमों की अंकतालिका में सातवां स्थान हासिल कर सकी।

    आस्ट्रेलिया के ग्रेग शीपर्ड अब डेयरडेविल्स टीम में किस्र्टेन की जगह लेंगे।

    उल्लेखनीय है कि किस्र्टेन के मार्गदर्शन में ही भारतीय टीम ने 2011 का विश्व कप जीता था।

    दिल्ली डेयरडेविल्स के मुख्य कार्यकारी अधिकारी हेमंत दुआ ने एक बयान में कहा, "किस्र्टेन ने अपने अनुभव से टीम को दोबारा खड़ा करने में अहम योगदान दिया। हम उनके काम की सराहना करते हैं और उन्हें भविष्य के लिए शुभकामनाएं देते हैं।"

    इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।

खरी बात

बाल संरक्षण की उलटी चाल

जावेद अनीस 26 साल पहले संयुक्त राष्ट्र की आम सभामें “बाल अधिकार समझौते” को पारित किया गया था जिसके बाद वैश्विक स्तर से बच्चों के अधिकार को गंभीरता से स्वीकार...

आधी दुनिया

शौचालय की समस्या से जूझती महिलायें

उपासना बेहार कितनी विडंबना है कि आजादी के 68 वर्ष बाद भी देश की बड़ी जनसंख्या खुले में शौच करने के लिए मजबूर है। 2011 की जनगणना के अनुसार देश...