JS NewsPlus - шаблон joomla Продвижение
BREAKING NEWS
सियाचिन हादसा : सियाचिन से बेस कैंप लाए गए सैनिकों के शव
'अंपायर रऊफ पर लगे भ्रष्टाचार के आरोप विनाशकारी'
प्यार में पड़ने से लगती है 30 लाख रुपये की चपत!
बेल्जियम में चीनी पांडा का कृत्रिम गर्भाधान सफल
बिहार से लापता सैन्य अधिकारी फैजाबाद में मिला
केरल : उम्मीदवारों का चयन दलों के लिए कठिन चुनौती
बढ़ते अपराध से बिहार की छवि धूमिल : रविशंकर
यू-19 विश्व कप : रिकॉर्ड चौथी बार खिताब जीतने उतरेगा भारत
ज्ञानपीठ पुरस्कार विजेता ओ.एन.वी. कुरूप का निधन
अफगानिस्तान में 24 आतंकवादी मारे गए

LIVE News

सियाचिन हादसा : सियाचिन से बेस कैंप लाए गए सैनिकों के शव

'अंपायर रऊफ पर लगे भ्रष्टाचार के आरोप विनाशकारी'

प्यार में पड़ने से लगती है 30 लाख रुपये की चपत!

बेल्जियम में चीनी पांडा का कृत्रिम गर्भाधान सफल

बिहार से लापता सैन्य अधिकारी फैजाबाद में मिला

दिल्ली में सम-विषम योजना 15-30 अप्रैल के बीच

नई दिल्ली, 11 फरवरी (आईएएनएस)। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने गुरुवार को कहा कि सम-विषम परिवहन परियोजना का उद्देश्य दिल्ली में प्रदूषण नियंत्रित करना है और यह योजना 15-30 अप्रैल के बीच फिर लागू की जाएगी। दोपहिया वाहनों व महिलाओं को इससे छूट मिलेगी।

केजरीवाल ने राष्ट्रीय राजधानी स्थित अपने आवास पर संवाददाताओं से कहा, "हम इसे 15-30 अप्रैल के लिए फिर लागू करेंगे।"

केजरीवाल ने कहा कि एक जनवरी से 15 जनवरी तक सम-विषम परिवहन योजना से मिली प्रतिक्रिया के आधार पर यह फैसला लिया गया है। योजना के तहत सम पंजीकरण संख्या वाले वाहनों को सम तारीख और विषम पंजीकरण संख्या वाले वाहनों को विषम तारीख के दिन परिचालन की इजाजत थी।

उन्होंने कहा, "सम-विषम परिवहन योजना का अगला चरण 15 अप्रैल से शुरू होगा।"

मुख्यमंत्री ने कहा, "यह चरणबद्ध तरीके से लागू होगा और स्थायी तौर पर तब तक नहीं लागू होगा, जब तक सार्वजनिक परिवहन व्यवस्था इसके कारण बढ़ने वाली भीड़ को सहन करने योग्य नहीं हो जाती।"

केजरीवाल ने हालांकि यह भी कहा कि दो पहिया वाहनों को योजना से दूर रखा जाएगा।

उन्होंने कहा कि दिल्ली में 30 लाख दोपहिया वाहन हैं और अगर इन्हें भी योजना के अंतर्गत लाया जाएगा, तो बसों व दिल्ली मेट्रो में भीड़भाड़ बहुत बढ़ जाएगी।

केजरीवाल ने कहा, "इसलिए हम दोपहिया वाहनों को योजना में शामिल नहीं कर सकते।"

केजरीवाल ने कहा कि योजना को दोबारा लागू करने के लिए 15 अप्रैल की तारीख का चयन इसलिए किया गया है, क्योंकि तब तक बोर्ड की सालाना परीक्षाएं खत्म हो जाएंगी।

उन्होंने कहा कि योजना के प्रति दिल्लीवासियों की प्रतिक्रिया बेहद उत्साहजनक रही है, वे इस योजना का क्रियान्वयन चाहते हैं, लेकिन बोर्ड परीक्षाओं के वक्त नहीं।

केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली सरकार इस बात पर चर्चा कर रही है कि इस योजना को हर महीने 15 दिन लागू किया जाना चाहिए या नहीं।

उन्होंने कहा, "इस बात पर केवल विचार किया जा रहा है।"

केजरीवाल ने कहा, "यदि दिल्ली की जनता सहयोग करे, यदि वे महीने में छह दिन परेशानी उठाएं, तो हम इसके बारे में सोच सकते हैं।"

केजरीवाल के मुताबिक, अगर इस योजना को दो सप्ताह के लिए लागू किया जाए, तो सम व विषम संख्या के कारों के मालिक अधिकतम छह दिन प्रभावित होंगे, क्योंकि यह योजना रविवार को लागू नहीं होती।

आम आदमी पार्टी (आप) नेता ने कहा कि अप्रैल में दिल्ली में सम-विषम योजना को लागू करने के लिए सेना के लगभग 500 सेवानिवृत्त कर्मियों की भर्ती की जाएगी।

उन्होंने कहा कि जनवरी में जब यह योजना लागू हुई थी, तो वीआईपी की तर्ज पर कई लोगों ने योजना से छूट की मांग की थी।

केजरीवाल ने संकेत दिया कि वे इसके लिए तैयार नहीं हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा, "हम वीआईपी से इस योजना का पालन करने का आग्रह करेंगे। लेकिन हम उन्हें छूट देना जारी रखेंगे। जितनी अधिक संख्या में वीआईपी इसका स्वयं पालन करेंगे, उतना ही अच्छा होगा।"

मुख्यमंत्री ने कहा कि दिल्ली में मई तक एक हजार नई बसें आ जाएंगी, अन्य एक हजार बसें अगस्त तथा बाकी के एक हजार बस दिसंबर में दिल्ली की सड़कों पर आ जाएंगी।

वहीं, उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि एक जनवरी से 15 जनवरी के दौरान यातायात जाम की समस्या न होने की शहर ने बेहद प्रशंसा की।

इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।

Related items

  • छग : नक्सलियों ने बीएसएफ जवान को गोली मारी
    कांकेर, 13 फरवरी (आईएएनएस)। छत्तीसगढ़ के कांकेर जिले के पखांजूर में शनिवार सुबह संगम गांव के एक बीएसएफ जवान को नक्सलियों ने गोली मार दी। घायल जवान हरिकेश का पखांजूर अस्पताल में उपचार चल रहा है। उसे दो गोलियां लगी हैं।

    हरिकेश बीएसएफ की 187 बटालियन में तैनात है। यह जवान अकेले संगम बाजार गया हुआ था, तभी नक्सलियों ने उसे बाजार में ही गोली मार दी। जवान को तीन गोलियां लगी हैं। एक गोली जवान के सिर में फंस गई है। उसकी हालत गंभीर बताई गई है।

    यह घटना बीएसएफ कैंप से करीब 500 मीटर दूरी पर हुई है। घायल जवान को पखांजूर सिविल अस्पताल से रायपुर लाने की तैयारी की जा रही है।

    इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।
  • सियाचिन हादसा : सियाचिन से बेस कैंप लाए गए सैनिकों के शव
    नई दिल्ली, 13 फरवरी (आईएएनएस)। हिमस्खलन हादसे में शहीद हुए सियाचिन की सोनम सैन्य चौकी पर तैनात नौ जवानों के शवों को शनिवार को बेस कैंप लाया गया। सेना ने यह जानकारी दी।

    सेना के एक प्रवक्ता ने कहा, "मौसम बहुत कम समय के लिए हल्का सा साफ हुआ और साहसिक कदम उठाते हुए सेना के हेलीकॉप्टरों के जरिए सियाचिन में शहीद हुए नौ सैनिकों के शवों को बेस कैंप के नजदीक स्थित हवाई पट्टी लाया गया।"

    प्रवक्ता ने बताया कि शुक्रवार को भी तीन बार शव लाने की कोशिशें की गईं, लेकिन खराब मौसम के चलते तीनों ही प्रयास विफल रहे।

    सैनिकों के शव जैसे ही जम्मू एवं कश्मीर के पार्तापुर लाए गए उन्हें सड़ने से बचाने के लिए रसायन का लेप लगाया गया और एक प्राथमिकी भी दर्ज कराई गई।

    प्रवक्ता ने कहा, "अगर मौसम सही रहा तो सैनिकों के शव रविवार की सुबह लेह ले जाए जाएंगे और फिर से वहां नई दिल्ली ले जाया जाएगा।"

    जिन सैनिकों की मौत हुई है, उनके नाम हैं : सूबेदार नागेश टीटी (तेजूर, जिला हासन, कर्नाटक), हवलदार इलम अलए एम (दुक्कम पाराई, जिला वेल्लोर, तमिलनाडु), लांस हवलदार एस. कुमार (कुमानन थोजू, जिला तेनी, तमिलनाडु), लांस नायक सुधीश बी (मोनोरोएथुरुत जिला कोल्लम, केरल), लांस नाइक हनमानथप्पा कोप्पड, (बेटाडुर, जिला धारवाड़, कर्नाटक), सिपाही महेश पीएन (एचडी कोटे, जिला मैसूर, कर्नाटक), सिपाही गणेशन जी (चोक्काथेवन पट्टी, जिला मदुरै, तमिलनाडु), सिपाही राम मूर्ति एन (गुडिसा टाना पल्ली, जिला कृष्णागिरी, तमिलनाडु), सिपाही मुश्ताक अहमद एस (पारनापल्लै, जिला कुर्नूल, आंध्र प्रदेश) और सिपाही नसिर्ंग असिस्टेंट सूर्यवंशी एसवी (मस्कारवाडी, जिला सतारा, महाराष्ट्र)।

    एक अन्य जवान लांस नायक हनुमनथप्पा कोप्पड़ बर्फ की मोटी चादर के नीचे जीवित दबे निकाल लिए गए थे, लेकिन गुरुवार को उपचार के दौरान उनकी भी मौत हो गई। हनुमनथप्पा का शुक्रवार को कर्नाटक के उनके गांव में आंतिम संस्कार कर दिया गया।

    इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।
  • बिहार से लापता सैन्य अधिकारी फैजाबाद में मिला
    लखनऊ, 13 फरवरी (आईएएनएस)। बिहार के कटिहार से 6 दिन पहले लापता एक सैन्य अधिकारी शनिवार को उत्तर प्रदेश के फैजाबाद जिले में मिला। पुलिस ने यह जानकारी दी।

    25 वर्षीय शिखरदीप धवन अपने गृह राज्य बिहार में लंबी छुट्टियां मनाकर कटिहार से जम्मू लौट रहे थे। 6 फरवरी की रात वह ट्रेन से अचानक लापता हो गए।

    पुलिस अधिकारी ने आईएएनएस को बताया कि शिखरदीप ने शनिवार को फैजाबाद पुलिस स्टेशन आकर खुद अपना परिचय दिया।

    पुलिस के अनुसार, वह महानंदा एक्सप्रेस में सवार थे और पानी की बोतल लेने के लिए पटना स्टेशन पर उतरे। बोतल लेकर जब वह अपने एसी कोच में वापस आए तो उनके मुंह से झाग निकलने लगा और उसके बाद वह बेहोश हो गए। होश आने पर उन्होंने खुद को एक अंधेरे कमरे में कुर्सी से बंधा पाया।

    पुलिस ने अधिकारी के हवाले से बताया कि उन्हें एक अंधेरे कमरे में रखा गया था। वहां एक शख्स हर रोज आता था और उन्हें हलवा खिलाता था। वह उनसे बहुत कम बात करता था।

    उन्होंने बताया कि वह खिड़की तोड़कर उस जगह से भागने में कामयाब हुए। रेल की पटरियां दिखने के बाद वह कुछ दूरी तक पैदल चले। उसके बाद वहां खड़ी कामाख्या एक्सप्रेस में चढ़कर फैजाबाद पहुंचे।

    पुलिस ने पूरी जानकारी दर्ज करने के बाद अधिकारी को सेना के हवाले कर दिया।

    शिखरदीप के परिवार ने 9 फरवरी को उनके लापता होने की रिपोर्ट दर्ज कराई थी। उनके पिता को आशंका थी कि कहीं उनके बेटे का किसी आतंकवादी संगठन ने अपहरण कर लिया है।

    इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।
  • केरल : उम्मीदवारों का चयन दलों के लिए कठिन चुनौती
    नई दिल्ली, 13 फरवरी (आईएएनएस)। केरल में आनेवाले विधानसभा चुनाव के लिए ज्यादातर राजनीतिक दलों के लिए उम्मीदवारों का चयन कठिन चुनौती बन गई है। एक उम्मीदवार ने कहा है कि वह अब चुनाव नहीं लड़ेंगे।

    कांग्रेसनीत संयुक्त लोकतांत्रिक मोर्चा (यूडीएफ) के दलों के लिए उम्मीदवारों का चयन काफी मुश्किल हो गया है, क्योंकि असंतुष्टों के बागी होने का खतरा है।

    वामपंथी पार्टियों ने पिछले कुछ समय से यह नियम बनाया था कि दो बार विधायक रह चुके लोगों को टिकट नहीं दिया जाएगा। माकपा इस नियम को लेकर बहुत सख्त नहीं रही है, लेकिन भाकपा इसका कड़ाई से पालन करती है।

    कांग्रेस में किसी तरह का नियम न होने से उनके लिए उम्मीदवार चुनना काफी कठिन कार्य बन गया है। पिछले कई बार से कांग्रेस सबसे पहले उम्मीदवारों की चयन प्रक्रिया में जुट जाती है, लेकिन उसकी अंतिम सूची सबसे देर से तैयार होती है।

    कांग्रेस में इस संबंध में पहले दौर की मंत्रणा शुरू हो चुकी है। पार्टी के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद दो दिनों तक प्रदेश के शीर्ष नेताओं से चर्चा करते रहे।

    इस दौरान राज्य के बिजली मंत्री आर्यदन मोहम्मद, जिनका कांग्रेस में काफी ऊंचा कद हैं और पांच दशकों से पार्टी से जुड़े हुए हैं, ने आईएएनएस को बताया कि उन्होंने चुनाव नहीं लड़ने का फैसला किया है।

    यह पूछे जाने पर कि क्या उनकी जगह उनके बेटे आर्यदन शौकत को मल्लपुरम जिले की उनकी पारंपरिक सीट नीलाम्बर से टिकट दिया जाएगा, उन्होंने हंसते हुए कहा, "क्या आप नहीं जानते कि हमारी पार्टी में टिकट काटने और उम्मीदवार बदलने का चलन है। इसलिए अभी इस पर कुछ कहना जल्दबाजी होगी।"

    कांग्रेस के तीन बार विधायक रहे एम.ए. वहीद, जो काझाकूटम निर्वाचन क्षेत्र से जीते हैं, का कहना है कि इस बार उनके लिए चुनाव जीतना काफी कठिन है, क्योंकि मुकाबला त्रिकोणीय है।

    माकपा के वरिष्ठ विधायक और पूर्व उद्योग मंत्री एलामारम करीम, जो दो बार विधायक रह चुके हैं, ने आईएएनएस से कहा कि वे अपने पोलित ब्यूरो सदस्य पिनरई विजयन के नेतृत्व में प्रस्तावित पार्टी की रैली रविवार को खत्म होने के बाद उम्मीदवार चयन के मुद्दे पर चर्चा करेंगे।

    2011 के चुनाव में कांग्रेस ने 82 सीटों पर उम्मीदवार खड़े किए थे, जिसमें से 38 पर उसे जीत हासिल हुई थी। जबकि माकपा ने 92 सीटों पर चुनाव लड़ा था और 44 सीटों पर जीत हासिल की थी। जबकि भाकपा ने 27 सीटों पर लड़कर 13 सीटों पर जीत हासिल की थी। कांग्रेसनीत यूडीएफ गठबंधन की दूसरी सबसे बड़ी पार्टी इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग ने 24 सीटों पर चुनाव लड़कर 20 सीटें हासिल की। केरल कांग्रेस (मणि) ने 15 सीटों पर चुनाव लड़ा और नौ सीटें जीती थी।

    इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।
  • बढ़ते अपराध से बिहार की छवि धूमिल : रविशंकर
    पटना, 13 फरवरी (आईएएनएस)। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता और केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने यहां शनिवार को कहा कि बिहार में बढ़ते अपराध से राज्य की छवि धूमिल हो रही है। उन्होंने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर आक्षेप करते हुए सवाल किया कि आखिर दो महीने के अंदर ही राज्य में 'डर का माहौल' क्यों बन गया।

    पटना में पत्रकारों से चर्चा करते हुए उन्होंने कहा, "बिहार में अपराध बढ़ रहा है और यह बहुत ही चिंता का विषय है, दुर्भाग्यपूर्ण और भर्त्सना के योग्य है।"

    केंद्रीय मंत्री ने कहा, "नीतीश कुमार जी और लालू प्रसाद जी जनता के समर्थन से जीतकर आए हैं और उनकी सरकार बनी है। अभी कुछ महीने ही गुजरे हैं और बिहार में खौफ का माहौल क्यों बन गया है?"

    भाजपा के वरिष्ठ नेता ने पूछा कि जब नीतीश कुमार भाजपा के साथ सरकार चला रहे थे तो उस समय अपराध पर पूरा नियंत्रण था और आज जब वह राष्ट्रीय जनता दल (राजद) प्रमुख लालू प्रसाद के साथ शासन चला रहे हैं, तो राज्य में खौफ का माहौल क्यों बन गया है?

    उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री शुक्रवार को दिनभर पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ बैठक करते हैं और शाम को भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष की हत्या हो जाती है, यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है।

    इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।
  • ज्ञानपीठ पुरस्कार विजेता ओ.एन.वी. कुरूप का निधन

    तिरुवनन्तपुरम, 13 फरवरी (आईएएनएस)। ज्ञानपीठ पुरस्कार विजेता और प्रसिद्ध मलयाली कवि और गीतकार ओ.एन.वी. कुरूप का शनिवार को यहां एक अस्पताल में निधन हो गया। वह 84 साल के थे।

    ओ.एन.वी. कुरूप के परिजनों ने उनके निधन की जानकारी दी। वह उम्र संबंधी बीमारी से पीड़ित थे।

    इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।

खरी बात

आरएसएस की मीडिया और जनता का जेएनयू

मोहम्मद अनस जवाहरलाल नेहरु विश्वविद्यालय में कथित तौर पर अफज़ल गुरु की शहादत दिवस मनाने और कश्मीर की आज़ादी के लिए भारत की बर्बादी के नारे लगाने वाले छात्रों के...

आधी दुनिया

सावित्रीबाई फुले जिन्होंने भारतीय स्त्रियों को शिक्षा की राह दिखाई

सावित्रीबाई फुले जिन्होंने भारतीय स्त्रियों को शिक्षा की राह दिखाई

उपासना बेहार “.....ज्ञान बिना सब कुछ खो जावे,बुद्धि बिना हम पशु हो जावें, अपना वक्त न करो बर्बाद,जाओ, जाकर शिक्षा पाओ......” सावित्रीबाई फुले की कविता का अंश अगर सावित्रीबाई फुले...

जीवनशैली

बेहतर सेक्स चाहते हैं? रात में तेज आवाज में गाने सुनें!

न्यूयार्क, 12 फरवरी (आईएएनएस)। एक शोध से यह पता चला है कि तेज आवाज में गाने सुनने से आप देर तक और बेहतर सेक्स कर पाएंगे। इस नतीजे पर पहुंचने...