Kharinews

 Breaking News
 

अंधेरे की सियासत का लोकतंत्र

पुण्य प्रसून बाजपेयी अंधेरा घना है और अंधेरे की सियासत तले लोकतंत्र का उजियारा खोजने की कोशिश हो रही है । मौजूदा वक्त में  लोकतंत्र का ये ऐसा रास्ता है जिसने आजादी के बाद से ही सत्ता हस्तातरण के उस मवाद को उभार दिया है जिसमें देश चाह कर भी बार बार 1947 की उसी परिस्थिति में जा खडा होता है जहा न्याय और समानता...

Read Full Article
🔀More Articles
खरी बात

अंधेरे की सियासत का लोकतंत्र

 

पुण्य प्रसून बाजपेयी अंधेरा घना है और अंधेरे की सियासत तले लोकतंत्र का उजियारा खोजने की कोशिश हो रही है । मौजूदा वक्त में  लोकतंत्र का ये ऐसा रास्ता है जिसने आजादी के बाद से ही सत्ता हस्तातरण के उस मवाद को उभार दिया है जिसमें देश चाह कर भी बार बार 1947 की उसी परिस्थिति में जा खडा होता है जहा न्याय और समानता...

Read Full Article

क्या उत्तरप्रदेश फिर तय करेगा देश की राजनीतिक दिशा?

 

नई दिल्ली, 20 मई (आईएएनएस)| देश की कुल 543 लोकसभा सीटों में से अकेले 80 सांसदों को संसद भेजने वाला सर्वाधिक आबादी वाले उत्तरप्रदेश को देश की राजनीतिक दिशा तय करने वाला राज्य माना जा सकता है, क्योंकि 16 में से 12 बार केंद्र में उसी पार्टी की सरकार बनी है, जिसने यहां अधिकतम सीटों पर कब्जा किया है।17वीं लोकसभा के चुनाव के लिए सात...

Read Full Article

सन् 1991 में प्रधानमंत्री पद के लिए शंकर दयाल थे सोनिया की पहली पसंद

 

नई दिल्ली, 21 मई (आईएएनएस)। साल 1991 के आम चुनाव में श्रीपेरुं बुदूर में प्रचार अभियान के दौरान राजीव गांधी की हत्या के बाद कांग्रेस 244 सीटों के साथ सत्ता में आई थी। यह अपनी तरह का एक अनोखा चुनाव था जोकि दो हिस्सों में हुआ था। एक राजीव की हत्या से पहले और एक हत्या के बाद। 20 मई को राजीव की हत्या से...

Read Full Article

बिजली संकट से परेशान बनारस के बुनकरों का दर्द कौन सुने!

 

अमिता वर्मा वाराणसी, 20 मई (आईएएनएस)। जब पूरा बनारस इस सप्ताह के अंत में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की दूसरी बार ताजपोशी की तैयारी में जुटा है, शहर के बुनकर बिजली की समस्या को लेकर चिंतित हैं। बिजली संकट के कारण उनके कारोबार में गिरावट आई है और उनके सामने आजीविका की समस्या उत्पन्न हो रही है। अधिकांश बुनकर मुस्लिम समुदाय से हैं, जो अपनी समस्या...

Read Full Article

बिजली संकट से परेशान बनारस के बुनकरों का दर्द कौन सुने!

 

अमिता वर्मा वाराणसी, 20 मई (आईएएनएस)। जब पूरा बनारस इस सप्ताह के अंत में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की दूसरी बार ताजपोशी की तैयारी में जुटा है, शहर के बुनकर बिजली की समस्या को लेकर चिंतित हैं। बिजली संकट के कारण उनके कारोबार में गिरावट आई है और उनके सामने आजीविका की समस्या उत्पन्न हो रही है। अधिकांश बुनकर मुस्लिम समुदाय से हैं, जो अपनी समस्या...

Read Full Article

उच्च रक्तचाप दिल के लिए नुकसानदेह (विश्व उच्च रक्तचाप दिवस)

 

नई दिल्ली, 17 मई (आईएएनएस)। उच्च रक्तचाप दिल (हाइपरटेंशन) दुनियाभर में लोगों को आम रूप से प्रभावित करने वाला रोग है। आपको बगैर किसी लक्षण के वर्षो से उच्च रक्तचाप हो सकता है। यहां तक कि बगैर लक्षण के आपकी रक्त वाहिकाओं और आपके हृदय को नुकसान पहुंचना जारी रहता है और उसकी पहचान की जा सकती है। इस तरह उच्च रक्तचाप दिल के लिए...

Read Full Article

उच्च रक्तचाप बढ़ाता है दिल के दौरे का खतरा (विश्व उच्च रक्तचाप दिवस)

 

नई दिल्ली, 17 मई (आईएएनएस)। खामोश हत्यारे के नाम से कुख्यात उच्च रक्तचाप (हाइपरटेंशन) दिल और मस्तिष्क के दौरे के खतरे को कई गुना बढ़ा देता है। चिकित्सा विशेषज्ञ बताते के अनुसार उच्च रक्तचाप के कारण दिल के दौरे व ब्रेन अटैक या स्ट्रोक होने का खतरा दोगुना हो जाता है और अगर हाइपरटेंशन के अलावा तनाव एवं नींद की समस्या भी हो तो यह...

Read Full Article

देश पर दोगुनी रफ्तार से बढ़ रहा कैंसर का बोझ

 

नई दिल्ली, 15 मई (आईएएनएस)। पिछले 26 वर्षो में भारत में कैंसर का बोझ दोगुना से अधिक हो गया है। स्तन, गर्भाशय ग्रीवा, मुंह और फेफड़े के कैंसर एक साथ देश में बीमारी के बोझ का 41 प्रतिशत हैं। रोकथाम की महत्ता पर जागरूकता पैदा करना समय की जरूरत है। आंकड़े यह भी बताते हैं कि वर्ष 2018 से 2040 के बीच प्रथम कीमोथेरेपी की...

Read Full Article
आधी दुनिया
 

खुद को जीवित साबित करते-करते बूढ़ी हो गईं 2 बहनें

मनोज शर्मा कोंडागांव (छत्तीसगढ़), 27 जनवरी (आईएएनएस/वीएनएस)। जिला मुख्यालय कोंडागांव नगर के तहसील कार्यालय में जमीन विवाद से संबंधित मामले में न्याय की आस लिए दो वृद्धा पहुंची थीं। महिलाओं को उनके ही सगे भाई ने जमीन हड़पने के लिए लगभग 18 वर्ष पूर्व मृत घोषित कर राजस्व रिकार्ड से उन दोनों सगी बहनों के नाम कटवाकर अपना नाम चढ़वा लिया था। उन्होंने कहा कि...

Read Full Article