Kharinews

कमाल का होगा मप्र में चुनाव का दूसरा चरण

May
06 2019

ऋतुपर्ण दवे
देश के पांचवें और मध्यप्रदेश के दूसरे चरण में 7 लोकसभा सीटों पर 6 मई को मतदान होगा। खास यह कि 4 सीटें बुंदेलखंड की हैं जो कहीं न कहीं उप्र की सीमा से लगी हैं। यकीनन, इन सीटों पर मतदाताओं का रुझान अलग सा हो सकता है।

उत्तर प्रदेश में अली, बजरंगबली, अनारकली, बुर्का और घूंघट वाले बयानों की खूब चर्चा रही। वहीं बाकी 2 सीटों पर मुद्दा राष्ट्रीय दिखा। बावजूद राजनीतिक दलों के जमकर पसीना बहाने के, मतदाता ने इस बार भी अजीबोगरीब खामोशी ओढ़े रखी। खुलकर बोलना तो दूर, संकेत तक न देकर सभी के मन में लड्डू फूटने दिए।

मंदिरों के लिए विश्व प्रसिद्ध खजुराहो (सामान्य) सीट पर मुकाबला मजेदार है। यहां कांग्रेस ने राजपरिवार से जुड़ी कविता सिंह को तो भाजपा ने मुरैना से आने वाले बड़े नेता वी.डी. शर्मा को मैदान में उतारा है, जिन्हें सबसे बड़ी चुनौती स्थानीय संगठन का भरोसा जीतना है। वहीं सपा ने जातीय समीकरण का ध्यान रख कभी विंध्य के दुर्दात डकैत रहे ददुआ के बेटे वीरसिंह पटेल जो उप्र के चित्रकूट सदर से विधायक भी रह चुके हैं, को मैदान में उतारा है।

यहां पिछड़े वर्ग के सर्वाधिक मतदाता हैं, जो चुनावों में अहम भूमिका निभाते हैं। खजुराहो लोकसभा क्षेत्र में 5 विधानसभा क्षेत्र बुंदेलखंड से तो तीन महाकौशल क्षेत्र से आते हैं। इस कारण भी यहां एक अलग समीकरण बनता है।

चांदला, राजनगर, पवई, गुन्नौर, पन्ना, विजयराघवगढ़, मुड़वारा और बहोरीबंद ऐसे विधानसभा क्षेत्र हैं, जिनमें राजनगर और गुन्नौर में कांग्रेस और बाकी सभी में भाजपा ने 2018 के चुनाव में जीत दर्ज की है। अब तक 6 बार कांग्रेस तो 7 बार भाजपा यहां जीती है। इस लोकसभा क्षेत्र का प्रतिनिधित्व कभी विद्यावती चतुर्वेदी और उमा भारती जैसी दिग्गजों ने किया था।

सफेद शेरों के लिए मशहूर रीवा लोकसभा (सामान्य) सीट का अलग मिजाज और महत्व है। विंध्य की राजधानी भी कहलाने वाले रीवा पर कांग्रेस 6 बार तो भाजपा व बसपा का 3-3 बार जीतीं। यहां विधानसभा की 8 सीटें हैं जो सिरमौर, मऊगंज, रीवा, सेमरिया, देवतालाब, गुढ़, त्योंथर और मनगवां हैं। सभी पर भाजपा काबिज है।

भाजपा ने मौजूदा सांसद जनार्दन मिश्रा पर फिर भरोसा जताया तो कांग्रेस ने पूर्व विधानसभा अध्यक्ष दिवंगत श्रीनिवास तिवारी के पोते तथा इसी 11 मार्च को अचानक दिवंगत हुए पूर्व सांसद सुंदरलाल तिवारी के बेटे सिद्धार्थ तिवारी को टिकट देकर युवा चेहरे पर सहानुभूति का भी बड़ा दांव खेला है। बसपा ने विकास पटेल को उतारकर ब्राह्मण बहुल मतदाताओं वाली इस सीट पर मुकाबला त्रिकोणीय कर दिया।

सतना (सामान्य) सीट कई मायनों में अलग है। यहां भाजपा ने तीन बार से लगातार सांसद गणेश सिंह जो प्रमुख कुर्मी नेता के रूप मे स्थापित हो चुके हैं, पर फिर भरोसा जताया है। जबकि कांग्रेस ने 42 साल यानी 1977 के बाद पहली बार ब्राह्मण प्रत्याशी के रूप में राजाराम त्रिपाठी को मैदान में उतारकर जातिगत वोट साधने की कोशिश की है। भाजपा के बृजेंद्र पाठक 1984 में आखिरी ब्राह्मण उम्मीदवार थे। वहीं बसपा ने अच्छेलाल कुशवाहा को उतारकर संघर्ष त्रिकोणीय कर दिया है।

सतना में चार बार कांग्रेस 1-1 बार जनसंघ और बसपा तथा 6 बार भाजपा को जीत मिली है। इसमें 7 विधानसभा सीटें हैं जो रामपुर बघेलान, रैगांव, मैहर, सतना और अमरपाटन में भाजपा तथा चित्रकूट, सतना में काबिज है। सन् 1991 में अर्जुन सिंह ने कांग्रेस के लिए आखिरी जीत दर्ज की थी। वर्ष 2014 में उनके बेटे अजय सिंह मौजूदा सांसद गणेश सिंह से हार गए थे। किसका जातिगत कार्ड किस पर कितना भारी पड़ेगा, यह नतीजों से ही पता चलेगा।


टीकमगढ़ (अनुसूचित जाति) सीट 2008 के परिसीमन में अस्तित्व में आई। अब तक दो बार हुए चुनावों में भाजपा-कांग्रेस की सीधी टक्कर में भाजपा के डॉ.वीरेंद्र कुमार खटीक विजयी रहे। कुल 6 बार सांसद रह चुके वीरेंद्र सादगी पसंद हैं जो मोदी सरकार में मंत्री हैं व यहां तीसरी बार मैदान में हैं जिनका कांग्रेस की कद्दावर महिला नेता किरण अहिरवार से सामना है। चुनावी नजारा बेहद बदला हुआ है।

सरकारी नौकरी छोड़कर राजनीति में आए सपा-बसपा गठबंधन के प्रत्याशी आर.डी. प्रजापति जंग-ए-मैदान में हैं। पहले बसपा, फिर भारतीय जनशक्ति पार्टी से चुनाव लड़ने और हारने के बाद भाजपा का रुख किया और 2013 में चंदला में जीत दर्ज की। वर्ष 2018 में इनके बेटे राजेश प्रजापति को चंदला से थे जो अब विधायक हैं। वहीं भाजपा से टीकमगढ़ लोकसभा टिकट न मिलने पर आर.डी. प्रजापति ने फिर बगावत कर दी जो कितनी भारी पड़ेगी यह नतीजे ही बताएंगे।

फिलहाल टीकमगढ़ रोचक एवं त्रिकोणीय संघर्ष का मैदान जरूर है। यहां तीन जिले छतरपुर, टीकमगढ़ और निवाड़ी की 8 विधानसभा सीटें टीकमगढ़, जतारा, खरगापुर, निवाड़ी, पृथ्वीपुर, महाराजपुर, छतरपुर और बिजावर हैं। पृथ्वीपुर, महाराजपुर, छतरपुर से कांग्रेस तो बिजावर में सपा तथा शेष चारों में भाजपा काबिज है।

दमोह (सामान्य) सीट पर चुनाव बेहद दिलचस्प हैं। यहां पर भाजपा के मौजूदा सांसद प्रहलाद पटेल फिर मैदान में हैं, जिनका मुकाबला कांग्रेस के प्रताप लोधी से है। वहीं बसपा से जितेंद्र खरे भी डटे हैं। असली मुकाबला कांग्रेस-भाजपा में सीधा है। शुरुआती 3 चुनाव जीतने के बाद 1989 से कांग्रेस लगातार 8 बार से हारती आई है। जातिगत समीकरणों के लिहाज से दिलचस्प दमोह में लोधी, कुर्मी और जैन मतदाताओं के बीच ही दलों का समीकरण बैठता है। इसी कारण केवल 1980 में कांग्रेस के प्रभुनारायण टंडन बतौर स्थानीय प्रत्याशी जीते, अन्यथा अब तक बाहरी दमदार प्रत्याशी ही जीतते आए हैं।

रोचक यह है कि सबसे ज्यादा चार बार भाजपा से जीतने वाले डॉ.रामकृष्ण कुसमारिया अब कांग्रेस में हैं। दमोह में 8 विधानसभा सीटें- देवरी, मल्हारा, जबेरा, रहली, पथरिया, हटा, बंडा, दमोह हैं, जिसमें 4 देवरी, मल्हारा, बंडा, दमोह में कांग्रेस, 1 पथरिया पर बसपा तथा शेष 3 पर भाजपा काबिज है।

होशंगाबाद (सामान्य) सीट पुरानी नर्मदापुरम है। सोयाबीन और गेहूं की बंपर पैदावार के चलते देशभर में एकाएक पहचान बनाए होशंगाबाद को नर्मदा नदी के पौराणिक तटों के कारण भी खूब जाना जाता है। यहां भाजपा से मौजूदा सांसद उदयप्रताप सिंह जो 2014 में कांग्रेस छोड़ भाजपा में शामिल हुए थे और कांग्रेस के शैलेंद्र दीवान चंद्रभान सिंह के बीच सीधी टक्कर है। जाहिर है मुकाबला भी कड़ा है।

रोचक यह है कि मतदाताओं ने हर नुमाइंदे को लगभग 2-2 मौका दिया है। अगर पिछले 15 लोकसभा चुनावों पर नजर डालें तो 7 बार कांग्रेस और 6 बार भाजपा को जीत मिली। जबकि 1962 में प्रजा सोशलिस्ट पार्टी तथा 1977 में भारतीय लोकदल ने बाजी मारी थी। अमूमन टक्कर भाजपा और कांग्रेस में ही रही।

आठ विधानसभा सीटें- जिनमें नरसिंहपुर, सिवनी-मालवा, होशंगाबाद, सोहागपुर, पिपरिया में भाजपा जबकि तेंदूखेड़ा, गाड़रवारा, उदयपुरा में कांग्रेस काबिज है। वैसे यहां की चौपालों में चर्चा के बजाय स्थानीय मुद्दों के राष्ट्रीय वह भी खासकर मोदी बनाम राहुल पर ही ज्यादा होती है। ऐसे में ऊंट किस करवट बैठेगा, यह देखने लायक होगा।

बैतूल (अनुसूचित जाति) सीट का फैलाव निमाड़ में खंडवा और हरदा तक है। पिछले 8 चुनावों से यहां सिर्फ भाजपा का ही परचम फहराया है। वर्ष 2008 में परिसीमन के बाद यह सीट अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित हुई। पहले 4 बार दिग्गज भाजपाई विजय कुमार खंडेलवाल तो उनके निधन के बाद बेटे हेमंत ने जीत हासिल की। पिछले दो चुनावों से भाजपा की ज्योति धुर्वे लगातार जीतती रहीं। वो जाति प्रमाणपत्र मामले में ऐसी उलझीं कि भाजपा ने उनका टिकट शिक्षक और गायत्री परिवार से जुड़े दुगार्दास उइके दे दिया।

कांग्रेस ने भी नए चेहरे रामू टेकाम पर दांव खेला है जो एलएलएम तक उच्च शिक्षित हैं तथा 10 साल से ज्यादा वक्त से राजनीति में रहकर आदिवासी समाज में बेहद लोकप्रिय हैं। इन्हें पार्टी सभी का समर्थन प्राप्त है। विधानसभा की 8 सीटों में मुलताई, बैतूल, घोड़ाडोंगरी, भैंसदेही में कांग्रेस तथा आमला, टिमरनी, हरदा, हरसूद में भाजपा काबिज है। जहां कांग्रेस कोई कसर नहीं छोड़ना चाहती है, वहीं भाजपा नए प्रत्याशी के सहारे 9वीं जीत हासिल करने जबरदस्त पसीना बहा रही है। यहां के अपने गणित अलग हैं। कौन कहां होगा, यह नतीजे ही बताएंगे।

सातों सीटों पर न लहर है, न कोई तूफान। वहीं सोशल मीडिया में जबरदस्त घमासान है। दावों में कोई पीछे नहीं है, लेकिन हकीकत को 23 मई का इंतजार है।

(लेखक स्वतंत्र पत्रकार एवं टिप्पणीकार हैं)

Related Articles

Comments

 

अंधेरे की सियासत का लोकतंत्र

Read Full Article

Subscribe To Our Mailing List

Your e-mail will be secure with us.
We will not share your information with anyone !

Archive